अंजू-नसरुल्लाह पर फिल्म, नाम होगा ‘मेरा अब्दुल ऐसा नहीं’:प्रोड्यूसर बोले

भास्कर इंटरव्यूपाकिस्तान गई अंजू पर बनेगी फिल्म:टाइटल- ‘मेरा अब्दुल ऐसा नहीं’, प्रोड्यूसर बोले- दिल्ली की श्रद्धा जैसी सूटकेस में होगी डिलीवरी

जयपुर19 घंटे पहलेलेखक: मनीष व्यास

  • कॉपी लिंक
फिल्म मेकर अमित जानी कई राजनीतिक विवादों में घिरे रहे हैं। वे अपने आप को भी भाजपा समर्थक होने का दावा करते हैं। - Dainik Bhaskar

फिल्म मेकर अमित जानी कई राजनीतिक विवादों में घिरे रहे हैं। वे अपने आप को भी भाजपा समर्थक होने का दावा करते हैं।

राजस्थान के भिवाड़ी से अपने पाकिस्तानी फेसबुक फ्रेंड नसरुल्लाह से शादी करने पाकिस्तान पहुंची अंजू उर्फ फातिमा की प्रेम कहानी अब सिनेमा के पर्दे पर दिखेगी। फायर फॉक्स प्रोडक्शन कंपनी ने इस फिल्म की घोषणा की है। प्रोडक्शन कंपनी ने फिल्म का टाइटल भी रजिस्टर करा लिया है, नाम है- ‘मेरा अब्दुल ऐसा नहीं है’।

अंजू-नसरुल्लाह पर फिल्म बनाने की घोषणा करने वाली कंपनी के MD अमित जानी इससे पहले उदयपुर में हुए कन्हैयालाल हत्याकांड पर भी ‘ए टेलर मर्डर स्टोरी’ नाम से फिल्म बनाने की घोषणा कर चुके हैं।

हाल ही में अमित जानी ने पाकिस्तान से सचिन मीणा के प्यार में भारत पहुंची सीमा हैदर व सचिन मीणा को इस फिल्म के लिए रोल ऑफर किए थे। वहीं, उन्होंने सीमा और सचिन की लव स्टोरी पर भी ‘कराची टू नोएडा’ नाम से फिल्म बनाने की अनाउंसमेंट की थी। हालांकि, फिल्म फ्लोर पर जाने से पहले उन्होंने एक बार इंडियन सिक्योरिटी एजेंसीज की सीमा हैदर को लेकर सभी तरह की इन्वेस्टिगेशन पूरी होने का इंतजार करने की बात कही थी।

भास्कर ने MD अमित जानी से बात कर जानने की कोशिश की कि वो अंजू और नसरुल्लाह पर फिल्म क्यों बनाना चाहते हैं? फिल्म के टाइटल पर इतना विवाद क्यों हो रहा है? वहीं, उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड पर बनने वाली फिल्म कब तक पूरी होगी व कब रिलीज होगी ?

पढ़िए पूरी बातचीत…

अमित जानी उत्तरप्रदेश नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और भाजपा समर्थक हैं।

अमित जानी उत्तरप्रदेश नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और भाजपा समर्थक हैं।

सवाल : अंजू और नसरुल्लाह की कहानी है, अब्दुल नाम कहां से आया?
जवाब : देखिए, अंजू और नसरुल्लाह की स्टोरी कोई नई नहीं है। ऐसी अंजू-नसरुल्लाह टाइप स्टोरी आपने पहले भी हिन्दुस्तान में देखी और पढ़ी होगी। इससे पहले एक श्रद्धा थी, जिसको दिल्ली में आफताब से प्यार हो गया था। उसके कई दोस्तों ने अपने इंटरव्यू में बताया था कि तब उसको कई लोगों ने समझाया था और उसको बार-बार कहा गया था, ये सही नहीं है। तब वो सभी से कहती थी कि मेरा अब्दुल (आफताब) ऐसा नहीं है और ये ट्रेंड भी है देश में कि मेरा अब्दुल ऐसा नहीं है।

जो श्रद्धा कहती थी, वही आज अंजू कह रही है। श्रद्धा को बात समझ में नहीं आई और उसे उसका खामियाजा भुगतना पड़ा। अब उसी रास्ते पर अंजू चल रही है। उसका अभी कहना है कि मेरा नसरुल्लाह ऐसा नहीं है। इसके लिए हमने एक मूवी रजिस्टर्ड कराई है।

उसका टाइटल नाम ‘मेरा अब्दुल ऐसा नहीं है’ रखा गया है। ये पूरी फिल्म अंजू के अब तक के जीवन पर आधरित होगी। हम भगवान से प्रार्थना करेंगे कि जब तक इस फिल्म की कहानी पर काम पूरा हो, कम से कम तब तक तो अंजू के साथ श्रद्धा जैसा हादसा न हो।

सवाल : आपको क्यों लगता है, अंजू के साथ भी श्रद्धा जैसा ही कुछ होगा ?
जवाब : मेरा मानना है कि जो लोग भी अपनी संस्कृति और सनातन को छोड़कर जा रहे हैं, उनका तो सर्वनाश निश्चित है। हमारी संस्कृति में तो नारी को देवी माना गया है। वहीं इसके उलट उधर नारी को बच्चा पैदा करने की मशीन माना जाता है। इसके लिए एग्रीमेंट कर निकाह किया जाता है। हमारे यहां शादी जन्म-जन्मांतर का पवित्र बंधन है। अब जिनको भी ये निकाह अच्छा लगा, उन्हें अंत में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। ऐसे तमाम उदाहरण हैं, जिसमें लड़की गई और उसके बाद वो कभी ब्रीफकेस में कटी हुई मिली तो कहीं फ्रीज में उसके पाट्‌र्स मिले।

अब अंजू का नसरुल्लाह कोई आसमान से उतरा हुआ तो नहीं है। फिलहाल उसे लगता है कि मेरा नसरुल्लाह ऐसा नहीं है, लेकिन अंजू को कहीं न कहीं इस हरकत का दंश झेलना पड़ेगा। जो स्कूल में घुस कर 350 बच्चों को गोलियों से भून सकते हैं, उनसे आप क्या उम्मीद कर सकते हैं। पाकिस्तान का तो मतलब ही हैवानियत और दहशतगर्दी है। महादेव से हमारी प्रार्थना है कि वो अंजू की रक्षा करें। हालांकि उसका महादेव से कोई लेना-देना अब रहा नहीं है।

भारत में अपने पति और बच्चों के साथ अंजू। उसने पाकिस्तान जाकर इस्लाम कबूल कर लिया और नसरुल्लाह नाम के शख्स से निकाह कर लिया।

भारत में अपने पति और बच्चों के साथ अंजू। उसने पाकिस्तान जाकर इस्लाम कबूल कर लिया और नसरुल्लाह नाम के शख्स से निकाह कर लिया।

सवाल : आप कन्हैयालाल हत्याकांड पर भी फिल्म बनाने वाले हैं?
फिलहाल हम चार मूवी प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे हैं। उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड पर हमारी अपकमिंग मूवी ‘ए टेलर मर्डर स्टोरी’ की शूटिंग सितंबर में पूरी हो जायेगी। ये फिल्म हम नवम्बर में रिलीज कर देंगे। इसके बाद सीमा हैदर और सचिन मीणा पर बनने वाली फिल्म ‘कराची टू नोएडा’ को फरवरी में रिलीज किया जाएगा। ये दोनों फिल्में बड़े पर्दे पर रिलीज की जाएंगी।

वहीं इसके बाद अप्रैल महीने तक 10 एपिसोड की एक वेब सीरीज ‘मॉबलिंचिंग’ रिलीज की जाएगी। इसके बाद ही हम अंजू और नसरुल्लाह पर बनने वाली अपकमिंग मूवी ‘मेरा अब्दुल ऐसा नहीं है’ को फ्लोर पर लाएंगे। हालांकि, इसकी स्क्रिप्ट पर अभी से काम शुरू कर दिया गया है। फिलहाल इसी सप्ताह हम अपकमिंग मूवी ‘ए टेलर मर्डर स्टोरी’ का पोस्टर रिलीज कर रहे हैं।

उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड पर भी अमित जानी 'ए टेलर मर्डर स्टोरी' नाम से फिल्म बना रहे हैं।

उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड पर भी अमित जानी ‘ए टेलर मर्डर स्टोरी’ नाम से फिल्म बना रहे हैं।

सवाल : क्या फिल्म के लिए आपने अंजू या उसके परिवार से परमिशन ली?
जवाब : हमें इसके लिए अंजू या उसके परिवार से कोई NOC लेने की जरुरत नहीं है, क्योंकि जो कुछ भी हुआ है वो पब्लिक डोमेन में है और हम कोई बायोपिक भी नहीं बना रहे हैं। इसके बावजूद इसकी बाकी फॉर्मेलिटीज हम पूरी कर लेंगे। हमने कन्हैयालालजी के परिवार से NOC इसलिए ली, क्योंकि उस मूवी में हमने सभी पात्रों और स्थान का नाम वास्तविक ही रखा है। फिल्म पूरी तरह से सच्ची कहानी पर ही बनाने वाले हैं।

फिलहाल हमने सीमा हैदर और सचिन मीणा पर बनने वाली मूवी ‘कराची टू नोएडा’ की कास्टिंग कर ली है। ‘मेरा अब्दुल ऐसा नहीं है’ फिल्म की स्क्रिप्ट तैयार होने के बाद हम इसकी कास्टिंग भी कर लेंगे।

उदयपुर के कन्हैयालाल के बेटे के साथ अमित जानी, जब फिल्म को लेकर उन्होंने परिवार की NOC ली थी।

उदयपुर के कन्हैयालाल के बेटे के साथ अमित जानी, जब फिल्म को लेकर उन्होंने परिवार की NOC ली थी।

सवाल : आपकी कंपनी अब तक कितनी फिल्में और सीरीज बना चुकी है?
जवाब : अब तक एक भी फिल्म रिलीज नहीं हुई है। हमारा स्टार्टिंग और लॉन्चिंग प्रोजेक्ट ही ‘ए टेलर मर्डर स्टोरी’ फिल्म है। फिलहाल हमारे चारों प्रोजेक्ट्स पाइपलाइन में है। इन सभी प्रोजेक्ट्स में जो आर्टिस्ट काम कर रहे हैं, वो सभी मंझे हुए कलाकार हैं और उनके पास काफी लंबा एक्सपीरियंस है। एक सप्ताह में हमारा पोस्टर रिलीज हो जाएगा, जिसमें स्टार कास्ट का खुलासा हो जाएगा।’

जानिए, कौन हैं अमित जानी
अमित जानी के पिता का नाम लखमीचंद अग्रवाल है। वह उत्तरप्रदेश के मेरठ के पास जानी कस्बे के रहने वाले हैं। अमित जानी का नाम विवादों से भी जुड़ चुका है। वह उत्‍तर प्रदेश नव निर्माण सेना के अध्‍यक्ष हैं। अमित ने महाराष्‍ट्र में हिंदी भाषियों के महाराष्‍ट्र नव निर्माण सेना (मनसे) के हाथों कथित उत्‍पीड़न का विरोध किया था। उन्‍होंने तब मेरठ में शिवसेना कार्यालय में तोड़फोड़ की थी। इसी के बाद उन्‍होंने उत्तर प्रदेश नव निर्माण सेना बनाई।

राजनीतिक रूप से देखा जाए तो अमित जानी सपा नेता शिवपाल यादव के समर्थक माने जाते थे। जब शिवपाल ने सपा से अलग होकर प्रसपा बनाई थी, उस समय अमित जानी ने प्रसपा जॉइन कर ली थी। वह खुलकर अखिलेश यादव के खिलाफ बोलते रहे हैं। उन्‍होंने शिवपाल यादव यूथ ब्रिगेड का गठन किया था।

साल 2012 में उस समय विवादों में घिरे, जब उन्‍होंने अखिलेश सरकार बनने के कुछ महीनों बाद ही पूर्व सीएम और बसपा सुप्रीमो मायावती की मूर्ति को क्षतिग्रस्‍त किया था। इसके लिए उन्‍हें जेल भी भेजा गया था। 2012 के यूपी विधानसभा चुनाव में राष्‍ट्रीय लोकदल के अध्‍यक्ष अजित सिंह और कांग्रेस नेता राहुल गांधी को उनकी सभा में काले झंडे दिखाए थे।

भास्कर से बातचीत में अमित ने खुद को उत्तरप्रदेश नवनिर्माण सेना का राष्ट्रीय अध्यक्ष और पॉलिटिकली बीजेपी को सपोर्ट करने वाला बताया।

सचिन मीणा और सीमा हैदर के साथ अमित जानी। उन्होंने सचिन-सीमा की कहानी पर भी 'कराची टू नोएडा' नाम से फिल्म बनाने की घोषणा की है।

सचिन मीणा और सीमा हैदर के साथ अमित जानी। उन्होंने सचिन-सीमा की कहानी पर भी ‘कराची टू नोएडा’ नाम से फिल्म बनाने की घोषणा की है।

अंजू को एक साल के वीजा एक्सटेंशन का दावा कितना सच?
हाल ही में अंजू के नए पाकिस्तानी शौहर नसरुल्लाह की तरफ से एक वीडियो रिलीज कर दावा किया गया था कि उनकी हिंदुस्तानी बेगम अंजू ने वीजा बढ़ाने की अर्जी लगाई थी। जिस पर पाकिस्तान सरकार उसका वीजा एक साल के लिए एक्सटेंड करने को राजी हो गई है। इसके बाद से तमाम मीडिया में ये खबर चलने लगी कि अंजू की अगले एक साल तक पाकिस्तान में रहने के लिए वीजा की मियाद बढ़ा दी गई है। हालांकि नसरुल्लाह ने इसी वीडियो में ये भी कहा था कि एक्सटेंडेड वीजा उन्हें अगले 10 दिनों बाद पोस्ट से मिलेगा। इसका मतलब वीडियो रिलीज करने तक उन्हें कोई एक्सटेंडेड वीजा नहीं मिला था।

नसरुल्लाह के नाम से ऑडियो मैसेज
वहीं अब 10 अगस्त को पाकिस्तानी मीडिया में नसरुल्लाह के नाम से एक ऑडियो मैसेज वायरल हुआ। जिसमें नसरुल्लाह ने कहा, ‘उन्हें अभी अंजू के वीजा एक्सटेंशन के दस्तावेज नहीं मिले हैं। इस प्रोसेस में 10-15 दिन लगते हैं। अब ये वीजा एक्सटेंशन देना या नहीं देना उन अफसरों का काम है।’

अंजू के नाम से मैसेज- मुझे कैसे भी अपने बच्चों से मिलना है
इसी दिन पाकिस्तानी मीडिया में अंजू के नाम से भी एक ऑडियो मैसेज वायरल हुआ। पढ़िए वो ऑडियो में क्या कह रही हैं…

‘पाकिस्तान में अब तक सबकुछ पॉजिटिव है, लेकिन जिस प्लानिंग से आई थी, जो सोचा था, उससे यहां अलग हो गया। जल्दबाजी में कुछ न कुछ हमसे भी मिस्टेक हो गई यहां। क्योंकि जो कुछ यहां पर हुआ है उससे वहां भारत में मेरी फैमिली को बहुत जलील किया गया है। सब मेरी वजह से हुआ है, इसलिए बहुत दुख है।’

‘मेरे बच्चों के मन में भी मेरे लिए क्या इमेज बनी होगी? ये सारी बातें परेशान करती है, इसलिए मैं अभी कैसे भी करके भारत जाना चाहती हूं और मैं अभी वहां जा सकती हूं।’

‘सब कुछ वहां फेस करना चाहती हूं। वहां की मीडिया के सभी सवालों के जवाब मेरे पास है, जो देना चाहती हूं। मैं उनको बताऊंगी कि मेरे साथ कोई जबरदस्ती नहीं हुई है। मुझे बहुत अच्छे से रखा गया और ये मेरा अपना पर्सनल डिसीजन था। मीडिया का प्रेशर ही था जिसकी वजह से जल्दी भारत नहीं जा पाई।’

‘अब मैं अपने बच्चे से मिलना चाहती हूं। मैं उन्हें बहुत मिस कर रही हूं। इसको लेकर बहुत ज्यादा दुखी हूं। मैं वर्किंग वुमन हूं और पहले भी उन्हें छोड़ा है उन्हें एक साल के लिए। यहीं कारण है जो मैं इतने टाइम यहां रुक भी गई। अब किसी से बात भी नहीं हो रही है, सभी मुझसे खफा हैं। अब मुझे कैसे भी अपने बच्चों से मिलना है और इंडिया लौटकर उन्हें हासिल करना है। इंडिया में जो फेस करना होगा उसके लिए तैयार हूं।’

-फिलहाल अंजू के पकिस्तान में ठहरने के लिए वीजा की मियाद 21 अगस्त तक की है। ऐसे में अगर उसे नया वीजा एक्सटेंशन नहीं मिलता है तो 21 अगस्त के बाद अंजू को भारत लौटना पडेगा।

इस वीडियो में नसरुल्लाह के साथ अंजू काले बुर्के में गाड़ी में बैठते हुए दिख रही है। जानकारी के मुताबिक ये वीडियो निकाह के बाद पाकिस्तान में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट से निकलते हुए की है।

इस वीडियो में नसरुल्लाह के साथ अंजू काले बुर्के में गाड़ी में बैठते हुए दिख रही है। जानकारी के मुताबिक ये वीडियो निकाह के बाद पाकिस्तान में डिस्ट्रिक्ट कोर्ट से निकलते हुए की है।

क्या अंजू को मिलेगी पाकिस्तान की नागरिकता

पाक मीडिया रिपोट्‌र्स में अंजू को जल्द ही पाकिस्तानी नागरिकता दिए जाने की बातें भी जोर पकड़ रही है। हमने इस पूरे मामले को समझने के लिए पड़ताल की तो सामने आया कि पाकिस्तान में नागरिकता तीन तरह से मिलती है। इसके लिए वहां पाकिस्तान सिटीजनशिप एक्ट 1951 बना हुआ है।

जन्म के आधार पर : जो कोई भी पाकिस्तान में पैदा हुआ है वो वहां का नागरिक है। हालांकि यहां ये पेंच है अगर कोई विदेशी नागरिक का बच्चा पाकिस्तान में जन्म ले तो उसे पाकिस्तान की नागरिकता नहीं मिलती है। ये नियम सिर्फ पाकिस्तानियों के लिए ही है। अप्रैल 2000 के बाद पाकिस्तानी माता और विदेशी पिता से होने वाली संतान को भी पाकिस्तानी नागरिकता दी जाने लगी है।

सेटलमेंट के आधार पर : वो लोग जो 1951 के सेटलमेंट से पहले पाकिस्तान आकर बस गए, उन्हें भी पाकिस्तानी नागरिकता मिल जाती है।

शादी के आधार पर : अगर कोई विदेशी महिला पाकिस्तानी पुरुष से शादी कर ले तो उस महिला को भी पाकिस्तानी नागरिकता मिल सकती है।

ये भी पढ़ें-

पाकिस्तान गई अंजू का पति बोला: उसके लिए दरवाजे बंद:कहा- वो बार-बार झूठ बोल रही है, शादी कर चुकी; बच्चे भी सब जान चुके हैं

अलवर के भिवाड़ी से पाकिस्तान गई अंजू को अब भारत में रहने वाला परिवार नहीं अपनाने वाला। पड़ोसी देश में जाकर अपने फेसबुक फ्रेंड से निकाह करने वाली अंजू उर्फ फातिमा के इस कदम से न तो उसका पहले पति खुश है और न ही उसके दोनों बच्चे। (पूरी खबर के लिए क्लिक करें)

Previous articleआज जांजगीर दौरे पर कांग्रेस अध्यक्ष, 24 सीटों पर फोकस:’भरोसे का सम्मेलन’ में शामिल होंगे मल्लिकार्जुन खड़गे, SC वोटरों पर नजर
Next articleगृहमंत्री अमित शाह के गुजरात दौरे का दूसरा दिन:गांधीनगर के मनसा में कई विकास कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण करेंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here