स्टालिन ने राज्यपाल को तमिलनाडु के लिए खतरा बताया:कहा

स्टालिन ने राज्यपाल को तमिलनाडु के लिए खतरा बताया:कहा- सांप्रदायिक नफरत को भड़काते हैं; उन्हें हटाने के लिए राष्ट्रपति को लेटर लिखा

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन राज्यपाल के कामों से असंतुष्ट हैं। उनका कहना है कि वे चुनी गई सरकार की विचारधारा के खिलाफ काम कर रहे हैं। - Dainik Bhaskar

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन राज्यपाल के कामों से असंतुष्ट हैं। उनका कहना है कि वे चुनी गई सरकार की विचारधारा के खिलाफ काम कर रहे हैं।

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने रविवार को राज्यपाल आर. एन. रवि को हटाने के लिए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को लेटर लिखा है। उन्होंने कहा कि जब कोई गवर्नर राजनेता बन जाए तो उसे पद पर नहीं रहना चाहिए।

CM ने आरोप लगाया कि राज्यपाल सांप्रदायिक नफरत को भड़काते हैं। वे तमिलनाडु की शांति के लिए खतरा हैं।

दरअसल, CM स्टालिन राज्यपाल से असंतुष्ट हैं। उनका कहना है कि उन्होंने संविधान के आर्टिकल 159 के तहत ली गई पद की शपथ का बार-बार उल्लंघन किया है। विधानसभा में पारित बिलों को मंजूरी देने में देरी की। AIADMK के पूर्व मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई करने की परमिशन तक नहीं दी। वे चुनी गई सरकार की विचारधारा के खिलाफ काम कर रहे हैं।

स्टालिन ने कहा- नगालैंड के CM ने भी उनके काम से असंतुष्ट थे
मुख्यमंत्री स्टालिन ने कहा कि नगालैंड के मुख्यमंत्री ने भी माना था कि राज्य के राज्यपाल के रूप में रवि का कार्यकाल संतोषजनक नहीं था। बता दें कि वे पहले नगालैंड और मेघालय के भी राज्यपाल रह चुके हैं।

सेंथिल बालाजी की बर्खास्तगी को बताया संविधान का उल्लंघन
CM स्टालिन ने कहा कि मेरी सहमति के बिना मंत्री सेंथिल बालाजी को बर्खास्त किया था। ये संविधान के नियमों का उल्लंघन है। इस कदम से उनके राजनीतिक झुकाव का पता चलता है।

ऐसे में आरएन रवि राज्यपाल बने रहेंगे या नहीं, यह राष्ट्रपति मुर्मू का फैसला रहेगा। हालांकि, राज्यपाल ने बाद में बर्खास्तगी का फैसला वापस ले लिया था।

मनी लॉन्ड्रिंग केस में तमिलनाडु के बिजली मंत्री गिरफ्तार हुए थे

बिजली मंत्री वी. सेंथिल बालाजी को ED ने 14 जून को मनी लॉन्ड्रिंग केस में अरेस्ट किया।

बिजली मंत्री वी. सेंथिल बालाजी को ED ने 14 जून को मनी लॉन्ड्रिंग केस में अरेस्ट किया।

तमिलनाडु के बिजली मंत्री वी. सेंथिल बालाजी को ED ने 14 जून को मनी लॉन्ड्रिंग केस में अरेस्ट किया था। लगातार 24 घंटे हुई पूछताछ के दौरान उन्होंने सीने में दर्द की शिकायत की। इसके बाद उन्हें चेन्नई के एक सरकारी मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। यहां वे दर्द से रोते हुए दिखे। डॉक्टर ने सेंथिल को बाईपास सर्जरी की सलाह दी है।

मनी लॉन्ड्रिंग का यह मामला 2014 का है। सेंथिल पर पैसे लेकर परिवहन विभाग में नौकरी देने के आरोप हैं। सेंथिल उस समय ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर थे। मई 2022 में सुप्रीम कोर्ट ने ED को घोटाले की नए सिरे से जांच के आदेश दिए थे।

मामले से जुड़ी भास्कर की ये खास खबरें भी पढ़ें…

1. तमिलनाडु के मंत्री सेंथिल बालाजी को गवर्नर ने बर्खास्त किया

ये तस्वीर तमिलनाडु के राज्यपाल आरएन रवि की है। वे पहले नागालैंड और मेघालय के भी राज्यपाल रह चुके हैं।

ये तस्वीर तमिलनाडु के राज्यपाल आरएन रवि की है। वे पहले नागालैंड और मेघालय के भी राज्यपाल रह चुके हैं।

तमिलनाडु के राज्यपाल आरएन रवि ने जेल में बंद वी सेंथिल बालाजी को तत्काल प्रभाव से मंत्रिपरिषद से बर्खास्त कर दिया। उन पर भ्रष्टाचार के आरोप हैं। सेंथिल को 14 जून को ED ने गिरफ्तार किया था। पूरी खबर पढ़ें …

2. तमिलनाडु के बिजली मंत्री गिरफ्तार के सीने में दर्द के बाद भर्ती किया गया

यह ओमंदुरार के सरकारी अस्पताल के बाहर की तस्वीर है। सीने में दर्द के कारण मंत्री सेंथिल रोने लगे थे।

यह ओमंदुरार के सरकारी अस्पताल के बाहर की तस्वीर है। सीने में दर्द के कारण मंत्री सेंथिल रोने लगे थे।

मनी लॉन्ड्रिंग केस में तमिलनाडु के बिजली मंत्री वी सेंथिल बालाजी को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अरेस्ट कर लिया। जांच एजेंसी ने उनसे 24 घंटे पूछताछ की। ED की कार्रवाई और पूछताछ के दौरान सेंथिल ने सीने में दर्द की शिकायत की। इसके बाद उन्हें मेडिकल जांच के लिए चेन्नई के एक सरकारी मेडिकल कॉलेज ले जाया गया। पूरी खबर पढ़ें …

Previous articleट्रेनिंग छोड़कर जा रहे अग्निवीर, कांग्रेस बोली
Next articleराहुल गांधी बोले-लद्दाख जाना चाहता हूं:सिक्योरिटी के कारण संभव नहीं, शादी के सवाल पर कहा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here